काठमांडू. नेपाल की संसद में विपक्ष का गतिरोध खत्म होने के बाद सत्तारूढ़ गठबंधन की सबसे बड़ी पार्टी नेपाली कांग्रेस के अध्यक्ष शेर बहादुर देउबा मंगलवार को चौथी बार देश के प्रधानमंत्री निर्वाचित हुए.

70 वर्षीय देउबा प्रधानमंत्री पद के चुनाव में अकेले उम्मीदवार थे. मुख्य विपक्षी यूएमएल या किसी दूसरी पार्टी ने अपना उम्मीदवार नहीं उतारा था. देउबा के पक्ष में 388 और विरोध में 170 वोट पड़े. वोटिंग के दौरान कुल 558 मत पड़े. देउबा को 593 सदस्यों वाली संसद में अपना बहुमत साबित करने के लिए कुल 297 वोटों की जरूरत थी.

नेपाली कांग्रेस के नेता नेपाल के 40वें प्रधानमंत्री बने हैं. यह पद पिछले माह माओवादी नेता प्रचंड के इस्तीफे के बाद से खाली हुआ था. उन्होंने नेपाली कांग्रेस के साथ सत्ता समझौते के तहत प्रधानमंत्री पद से इस्तीफा दिया था. इसके पहले सीपीएन-यूएमएल ने संसद में जारी गतिरोध समाप्त करने का फैसला किया. यह फैसला 28 जून को चार प्रांतों में स्थानीय निकाय चुनाव कराने और अगले साल जनवरी में प्रांतीय और संसदीय चुनाव कराने पर सहमत होने के बाद लिया गया.

उम्मीद जताई गई कि देउबा छोटे मंत्रिमंडल का गठन करेंगे और कुछ दिनों बाद इसका विस्तार करेंगे. इसमें कुछ मधेशी पार्टियां भी शामिल हो सकती हैं. देउबा इसके पहले 1995 से 1997, 2001 से 2002 और 2004 से 2005 तक प्रधानमंत्री रह चुके हैं.

आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. भारत हर स्थिति में अफ्रीका के साथ खड़ा रहेगा: पीएम मोदी

2. कोलगेट मामले में कांग्रेस सांसद नवीन जिंदल को समन जारी

3. नौशेरा में भारतीय 'कार्रवाई' का पाक ने किया खंडन

4. लोन डिफॉल्टरों की सूची सार्वजनिक करने से आरबीआई का इंकार

5. अमरनाथ यात्रा पर मंडरा रहा खतरा!, गृह मंत्रालय ने की हाई लेवल मीटिंग

6. तांत्रिक चंद्रास्वामी का निधन, नेता से लेकर अभिनेता तक झुकाते थे सिर

7. घरेलू स्तर पर वैवाहिक मांग आने से सोने-चांदी की कीमतों में उछाल

8. दिल्ली एमसीडी उपचुनाव: आप व कांग्रेस प्रत्याशी जीते, भाजपा प्रत्याशियों को मिली करारी हार

9. स्पाइसजेट कराएगी सिर्फ 12 रुपए में हवाई सफर

10. वायुसेना का विमान सुखाई-30 लापता, सर्च ऑपरेशन जारी

11. इस तरह साजएं बेकार पड़ी वाइन बोतल से घर

12. अच्छे लड़के के साथ डेटिंग करना चाहती हैं एमी शूमर

13. 2 बच्चों की मां ने चौथी बार एवरेस्ट चढ़कर किया भारत का सिर गर्व से ऊंचा, रचा नया इतिहास!

14. सूर्य की पुत्री के साथ भगवान हनुमान की हुई थी शादी, तेलंगाना में पत्नी के साथ एक मंदिर

15. यदि कुंडली में सूर्य शनि हों एक साथ तो झेलने पड़ेंगे दुष्परिणाम

************************************************************************************




Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।