डॉ नीतू नवगीत.....रूठ गई है वह चिड़िया जो हमारे आंगन में फुदकते रहती थी. जिसकी चीं-चीं की आवाज सुन हम बचपन में जागा करते. बिस्तर छोड़ने के बाद तेजी से आंगन की ओर भागते कि छोटी-सी, नन्हीं-सी, प्यारी-सी हमारी बहना हमारे हाथ आ जाए. पर वह प्यारी बहना थी इतनी तेज कि फुर्र से उड़ जाती और आंगन के दूसरे छोर पर फुदकने लगती. हमें ललकारती कि यदि तुम्हारे अंदर भी मेरी जैसी फुर्ती है तो दौड़ो और हमें पकड़ो. लेकिन हम कभी भी उसे दौड़ कर पकड़ नहीं पाए.

हाथों में दाना लिए हम यदि प्यार का संसार बिछाते तो कभी-कभार वह हाथ भी आ जाती. हम उसे प्यार से सहलाते. फिर उसके पंखों की रंगाई करते और उसे छोड़ देते- स्वतंत्र रूप से आंगन के इस कोने से उस कोने तक फुदकते रहने के लिए. आंगन में भरपेट खुद्दी खाने के बाद वह उड़ कर सेमल के पेड़ पर जाती या घर की मुंडेर पर. वहां से उड़कर अपने घोसले में आती जो बना था हमारे ही घर के रौशनदान में. तिनका-तिनका जोड़कर अपनी दुनिया बसाती थी गौरैया. जिस किसी गौरैया को हम गुलाबी या हरे रंग में रंगते, वह अगले कई दिनों के लिए हमारी होती. हमारे प्यार के रंग में रंगी हुई गौरेया. हम उस प्यारी-सी, रंगी हुई गौरैया को देख-देखकर आह्लादित होते रहते- 'वह देखो मेरी वाली प्यारी सी गौरैया'.

वही गौरैया आज रूठी हुई है. हमने जो कंक्रीट का जंगल बसाया है,उसमें बहुत कम दिखती है. न के बराबर.हम चाहते हैं कि वह हमारे आसपास ही रहे. चहकते हुए. फुदकते हुए. अठखेलियां खेलते हुए. लेकिन वह दिखती नहीं. घरों की परिभाषा से आंगन और रौशनदान ओझल हुए हैं. घर की छत और बालकनी गौरैया को रास नहीं आ रहे. दाना-पानी का भी संकट है. शहरों में हरियाली को बचाने के नाम पर दनादन उर्वरकों और कीटनाशक दवाइयों का प्रयोग हो रहा है. गौरैया को ये सब रास नहीं आ रहे. आधुनिक जीवन की कृत्रिमता में गौरैया खुद को छली हुई महसूस कर रही है. उसे तो आंगन में सूप से धान फटकती उन औरतों से प्यार था जिनका एक-आध दाना झटके में उड़ा कर वह तृप्त होती थी. वो बच्चियां गौरैया की संगिनी थी जो सुबह में आंख मलते हुए आंगन में आती थी और उसे पकड़ने का प्रयास करती थी. लेकिन वह माहौल नदारत है और गौरैया रूठी हुई है.

मोबाइल टॉवरों को भी गौरैया के रूठने के कारणों में से एक माना गया है.कुछ रिसर्च में यह माना गया था कि मोबाइल टावरों के कारण गौरैया की प्रजनन क्षमता में कमी आई है. हालांकि अब उसे खारिज कर दिया गया है. घर, भोजन और सुंदर वातावरण की कमी आज की तारीख में गौरैया की संख्या में आई कमी का सबसे प्रमुख कारण है. छोटी-सी गौरैया पर इतना भारी संकट आ पड़ा है कि इसे विलुप्तप्राय प्राणियों की श्रेणी में शामिल कर लिया गया है. 2010 ई. से लगातार प्रत्येक वर्ष 20 मार्च को विश्व गौरैया दिवस के रुप में मनाया जा रहा है ताकि रूठी हुई गौरैया को मनाया जा सके. 2013 में बिहार सरकार ने इसे राजकीय पक्षी का भी दर्जा दे दिया है. नासिक के मोहम्मद दिलावर और पटना के मोहम्मद हनीफ सहित अनेक पक्षी प्रेमी गौरैया को बचाने में लगे हुए हैं.

दूरदर्शन पटना के उपनिदेशक संजय कुमार भी गौरैया के जीवन से जुड़े विविध पहलुओं को अपनी फोटोग्राफी के माध्यम से उजागर कर रहे हैं और लोगों से गौरैया के लिए कुछ करने का आग्रह कर रहे हैं. लेकिन कुछ लोगों के प्रयास मात्र से इस प्यारी चिड़िया को मनाना संभव नहीं है. इसके लिए व्यापक पैमाने पर कोशिश करनी होगी. हर घर में गौरैया के रहने के लिए घोंसला बनाना होगा. उसके लिए दाने पानी का भी इंतजाम करना होगा. उसे अपनी जिंदगी का हिस्सा बनाना होगा. यह कहते हुए कि ओ प्यारी सी चिड़िया, तुम हमारे घर में फिर से आ जाओ. तभी वह प्यारी सी फुदकने-चहकने वाली गौरेया हमारे घर आंगन को लंबे समय तक गुंजायमान रखने के लिए हमारी जिंदगी का हिस्सा बनी रहेगी.


Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।


आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. दुनिया की 6 अमीर मुस्लिम महिलायें जो मालिक हैं अकूत धन सम्पदा की

2. तो क्या महाभारत के समय में ब्रह्मास्त्र के रूप में थे परमाणु हथियार?

3. श्रेया घोषाल ने ट्रांसपेरेंट ड्रेस पहनकर मचाया हंगामा

4. Vivo ने भारत में लांच किया नया Y66 स्मार्टफोन

5. देखें अपने ज़माने की मशहूर अदाकारा श्रीदेवी की बेटियों की ख़ूबसूरती, स्टाइल में सोनम को भी दी मात

6. रिलायंस जियो के लिए किये गये सर्वे में हुआ खुलासा यूज़र्स फ्री ऑफर खत्म होने के बाद भी जुड़े रहना चाहते हैं, जियो नेटवर्क से

7. योगी आदित्यनाथ बने उत्तर प्रदेश के 21 वें मुख्यमंत्री, केशव प्रसाद मौर्य और दिनेश शर्मा डिप्टी सीएम

8. सगाई के बाद से लगातार अंतरंग तस्वीरें पोस्ट कर रही हैं सोफिया

9. कपड़ों के अंदर झांक रहे बॉस को लड़की ने सिखाया सबक! देंखें वीडियो

10. दिल्ली में AAP नेता ने गन प्वाइंट पर लूटे 25 लाख, गिरफ्तार

11. जियो ने म्यूजिक ऐप में नई अपडेट लॉन्च की

************************************************************************************