चुपके-चुपके रात दिन आंसू बहाना याद है.

हमको अबतक आशिक़ी का वो ज़माना याद है..

‘निकाह’ फिल्म की ये ग़ज़ल किसे पसंद नहीं होगी. ये वो ग़ज़ल है जिसे जब भी गुनगुनाया गया ग़ुलाम अली याद आए लेकिन अजीब बात है कि वो शख्स कम ही याद आया जिसने इसे काग़ज़ पर उतारा. इस गज़ल को कहा था जनाब हसरत मोहानी साहब ने. हसरत मोहानी को कॉमरेड हसरत मोहानी भी कहते हैं. एक ही ज़िंदगी में कई ज़िंदगी जीने वाले हसरत मोहानी साहब के बारे में, आइये कुछ जानते हैं.

कौन थे हसरत मोहानी

हसरत मोहानी का नाम सय्यद फ़ज़ल-उल-हसन और ‘तख़ल्लुस’ (शायरों का उपनाम) ‘हसरत’ था. वह उन्नाव के क़स्बा मोहान में एक जनवरी 1875 को पैदा हुए. आपके वालिद का नाम सय्यद अज़हर हुसैन था. हसरत मोहानी ने शुरुआती तालीम घर पर ही हासिल की और 1903 में अलीगढ़ से बीए किया. शुरू ही से उन्हें शायरी का ज़ौक़ था और अपना कलाम तसनीम लखनवी को दिखाने लगे. 1903 में अलीगढ़ से एक रिसाला ‘उर्दू ए मुअल्ला’ जारी किया.

इस सब के बीच वो लगातार स्वदेशी मूवमेंट में भी हिस्सा लेते रहे. 1907 में एक मज़मून प्रकाशित करने पर वह जेल भेज दिए गए लेकिन इसके बावजूद वो आज़ादी की जंग में शरीक हुए. ‘इंकलाब ज़िंदाबाद’ का नारा हसरत साहब ने ही दिया था. साल 1947 तक वो कई बार क़ैद और रिहा हुए. हसरत साहब कम्यूनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया के भी संस्थापक सदस्य थे. कम्युनिस्ट पार्टी के देश में हुए पहले अधिवेशन का अध्यक्ष रहे इसलिए उन्हें कॉमरेड हसरत मोहानी भी कहा जाता है. हसरत साहब का इंतकाल 13 मई 1951 को लखनऊ में हुआ था और यहीं उनको सुपर्द ए ख़ाक भी किया गया.

न सिर्फ जंग ए आज़ादी की लड़ाई के एक सिपाही के तौर पर बल्कि एक मशहूर शायर के तौर पर भी हसरत मोहानी को याद किया जाता है. एक दौर था जब उनकी शायरी की जितने कद्रदान हिंदुस्तान में थे उतने ही पाकिस्तान में भी. पाकिस्तान सरकार ने उनकी इज़्ज़त अफ़ज़ाई के तौर पर वहां डाक टिकट भी जारी किये थे.

चलते-चलते आइये सुनते है मशहूर गायक ग़ुलाम अली की आवाज़ में जनाब हसरत मोहानी की एक बेहद मशहूर ग़ज़ल ‘शेवा ए इश्क़ नहीं हुस्न को रुस्वा करना’.


Disclaimer : इस न्यूज़ पोर्टल को बेहतर बनाने में सहायता करें और किसी खबर या अंश मे कोई गलती हो या सूचना / तथ्य में कोई कमी हो अथवा कोई कॉपीराइट आपत्ति हो तो वह info@palpalindia.com पर सूचित करें। साथ ही साथ पूरी जानकारी तथ्य के साथ दें। जिससे आलेख को सही किया जा सके या हटाया जा सके ।


आज का दिन : ज्योतिष की नज़र में


जानिए 2017 में कैसा रहेगा आपका भविष्य


खबर : चर्चा में


1. गुरु गोविन्द सिंह के 350वें प्रकाश उत्सव पर विशेष: सभ्यता और संस्कृति के प्रतीक पुरुष

2. डैबिट कार्ड ट्रांजैक्शन फीस शुरू, बढ़ी परेशानी

3. 'भीम' देश का सबसे पॉपुलर एंड्रायड ऐप, गूगल ने दी 4.1 रेटिंग

4. रूरल एरिया में भेजें जाएं 40 फीसदी नोट:आरबीआई

5. पाक ने उगला जहर, भारत पर लगाया आतंकवाद को बढ़ावा देने का आरोप

6. बॉलीवुड में डेब्यू करने जा रहे हैं 10 न्यूकमर्स

7. पहाड़ी इलाकों में रहने वालों के खातों में सरकार ट्रांसफर करेगी 1.5 लाख रुपए!

8. फेसबुक ने ब्‍लॉक की ऐतिहासिक तस्‍वीर, बताया अश्‍लील

9. अखिलेश-मुलायम के बीच दंगल से भाजपा का पलड़ा भारी, चुनाव में मार लेगी बाजी!

10. मिताली राज को मिली भारतीय महिला क्रिकेट टीम की कप्तानी

11. 31 जनवरी से शुरू हो सकता है बजट सत्र

12. हिंसा और हमले से चिटफंड घोटाले को नहीं मिलेगी क्लीनचिट : भाजपा

13. इस लड़के ने फ़ोन पर लड़की से की ऐसी बात जिसे सुनकर आप अपनी हँसी नहीं रोक पाएंगे…!

14. देखा जा सकेगा नासा द्वारा खोजा गया दुर्लभ धूमकेतु

15. नये नोटों पर गांधी जी की जगह छपेगी भगत सिंह की फोटो?

************************************************************************************

बॉलीवुड      कारोबार      दुनिया      खेल      इन्फो     राशिफल     मोबाइल

************************************************************************************


पलपलइंडिया का ऐनडरोएड मोबाइल एप्प डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे.

खबरे पढने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने, ट्विटर और गूगल+ पर फालो भी कर सकते है.



अन्य जानकारियां :

सुरुचि: इस पेज पर कुकिंग और रेसेपी के बारे में रोज़ जानिए कुछ नया

तनमन: इस पेज पर जाने सेहतमंद रहने के तरीके और जानकारियां

शैली: यह पेज देगा स्टाइल और ब्यूटीटिप्स सहित लाइफस्टाइल को नया टच

मंगलपरिणय: इस पेज पर मिलेगी विवाह से जुड़ी हर वो जानकारी जिसे आप जानना चाहेंगी

आधी दुनिया: यह पेज साझा करता है महिलाओं की जिन्दगी के हर छुए-अनछुए पहलुओं को

यात्रा: इस पेज पर जानें देश-विदेश के पर्यटन स्थलों को

वास्तुशास्त्र: यह पेज देगा खुशहाल जिन्दगी की बेहद आसान टिप्स