घृतकुमारी

प्रचलित नाम : घीकुवार, ग्वार पाठा, घृतकुमारी, रससार-एलुआ, मुसब्वर

अंग्रेजी नाम : एलो, ए बार्बएडनेन्सिस मिल

पौध परिचय : घृतकुमारी का पौधा बहुवर्षीय, 30-60 से.मी. ऊँचा होता है. पत्तियों के तने पर सघन कांटे होते हैं, रूपरेखा में गोपुच्छाकार या भालाकार, मोटी, गुदेदार तथा बाहर से पुष्पध्वज निकलता है, जिस पर पीले तथा लाल रंग के पुष्प निकलते हैं.

उपयोगी अंग : पत्तियों से प्राप्त लसीला पीला कड़ुआ द्रव्य (एलोएटिक जूस), सफेद गूदा (एलो जेल).

मुख्य रासायनिक घटक : घृतकुमारी का प्रमुख घटक एल्वायन होता है, जिसमें बार्बेल्वायन, आईसोवार्वेल्वायन एवं एलोइमोडिन आदि घटक पाये जाते हैं.

औषधीय गुण एवं उपयोग : घृतकुमारी अल्पमात्र में दीपन, पाचन, कटुपौष्टिक, यकृत उत्तेजक तथा बड़ी मात्रा में विरेचन, कृमिघ्न, रक्तशोधक, आर्त्तजनन, गुण वाली होती है. वर्तमान समय में एलोजेल का सौन्दर्य प्रसाधन में अत्यधिक उपयोग किया जा रहा है, एवं विभिन्न प्रकार के क्रीम, शैम्पू, लोशन, इत्यादि व्यावसायिक उत्पाद बाजार में उपलब्ध हैं.

गिलोय

प्रचलित नाम : अमृता, गुडूंची, गीडूच

अंग्रेजी नाम : टीनोस्पोरा

पौध परिचय : गिलोय या गुडुची, पेड़ों (नीम, आम आदि) पर चढ़ी, झाड़ीदार, बहुवर्षीय लता होती है. इसकी शाखाओं से तागे की तरह लटकती जड़ें हवा मे झूलती रहती हैं. इसका तना हरा, मांसल, पत्ती हृदयाकार, फूल गुच्छकों में, छोटे पीले, फल-छोटे मटर के समान, अल्पावस्था में हरित एवं पकने पर लाल रंग के तथा बीज सफेद मिर्च के दाने के समान छोटे होते हैं.

उपयोगी अंग : जड़, तना, पत्ती

मुख्य रासायनिक घटक : छालयुक्त तले के अंतर्गत विभिन्न प्रकार के रासायनिक घटक पाए जाते हैं जिनमें प्रमुख हैं- तिक्त ग्लूकोसाइड- जिल्वाएन एवं अतिक्त-ग्लूकोसाइड-जिलोनिन; इसके अतिरिक्त, तीन तिक्त यौगिक यथा-टिनोस्पोरोन, टिनोस्पोरिक एसिड और टिन स्पोराल भी पाए गए हैं. अल्प मात्रा में बरबेरीन नामक तत्व भी निष्कर्षित किया गया है.

औषधीय गुण एवं उपयोग : अमृत के समान लाभकारी अमृत या गुडुची वात; पित्त तथा कफ का शमन करती है. यह भूख बढ़ाने वाली, रक्त शोधक, ज्वर नाशक तथा हृदय के लिए लाभदायक है. यह पीलिया, मधुमेह, मलेरिया आदि रोगों में भी लाभदायक है.

इसबगोल

प्रचलित नाम : ईबगोल, इसपगोल, इस्पगोल

अंग्रेजी नाम : ब्लाण्ड सिलियम्, इस्पागुल सीड

उपयोगी अंग : बीज (इसबगोल) एवं बीज की भूसी

मुख्य रासायनिक घटक : इसबगोल के बीजों एवं भूसी में काफी मात्रा में म्युसिलेज पाया जाता है, जिसके अन्दर मुख्य रूप से जाईलोज, एरेविनोज रैमन्नोज और गैलेक्टोज आदि पाये जाते हैं. भूसी रहित बीज से हल्के पीले रंग का अर्ध-घन तेल (सेमीड्राइंग आयल) निकलता है, जिसमें लिनोलिक एसिड काफी मात्रा में विद्यमान रहता है.

औषधीय गुण एवं उपयोग : इसबगोल के बीज एवं भूसी को एक औषधि के रूप में प्रयोग किया जाता है. इसबगोल की भूसी पौष्टिक होने के साथ-साथ मृदुसारक भी है. दौर्बल्य एवं विवन्धयुक्त अवस्थाओं में यह एक उत्तम औषधि है. पुराने कब्ज, एमिबिक और वेसिलरी दस्त में इसबगोल बहुत ही लाभदायक है.

कालमेघ

प्रचलित नाम : भूनिम्ब, कल्पानाथ, हरा चिरैयता, कालमेघ

अंग्रेजी नाम : एन्ड्राग्राफिस, क्रियेत

पौध परिचय : कालमेघ तिक्त गुणों वाला, एक वर्षीय-बहुवर्षीय (विशेष कृति परिस्थितियों में), शाकीय पौधा है, जो 60 से 100 से.मी. तक ऊँचा होता है. इसके काण्ड उर्ध्व, चतुष्कोणी, बहुशाखीय तथा प्राय: गाढ़े हरे रंग के होते हैं. पत्तियाँ विपरित पर्णी, आकार में भालाकार होती है. पुष्प आकार में छोटे तथा दल-चक्र (करोला) रंग में गुलाबी होते हैं. फल सामान्य स्फोटी (कैप्सूल) तथा रूपरेखा में लम्बोतर और दोनों सिरों पर क्रमश: कम चौड़ा, देखने में जौ की तरह होते हैं. प्रत्येक फल में पीजाभ-भूरे रंग के बीज होते हैं.

उपयोगी अंग : सम्पूर्ण पौधा

मुख्य रासायनिक घटक : कालमेघ में कई प्रकार के डाईटरपीनाएड्स पाए जाते हैं जिनमें मुख्य तिक्त एन्ड्रोग्रेफोलाइड एवं प्रमुख अतिक्त यौगिक नियो-एन्ड्रोग्रेफोलाइड है.

औषधीय गुण एवं उपयोग : सम्पूर्ण पौधे में कषाए, दर्द निवारक, शोध प्रतिरोधिता, एम्यूनोसप्रेसिव और एलेक्सीकार्मिक गुण पाए गए हैं, यह त्वचा रोगों, अतिसार, आँव, हैजा, ज्वर, मधुमेह आदि रोगों में लाभदायक है. इस पौधे का काढ़ा रक्तशोधक, असामान्य प्लीजा, यकृत-उत्तेजक, पीलिया, चर्मरोग, डिस्पेशिया और कृमिरोग के लिए उपयुक्त होता है. इसकी जड़ का काढ़ा एक उद्दीपक, टॉनिक और मृदुरेचक है.

राष्ट्रपति भवन का औषधीय उद्यान -2

राष्ट्रपति भवन का औषधीय उद्यान -1


************************************************************************************

बॉलीवुड       कारोबार        दुनिया       खेल        इन्फो      राशिफल

************************************************************************************



पलपलइंडिया का ऐनडरोएड मोबाइल एप्प डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे.

खबरे पढने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने, ट्विटर और गूगल+ पर फालो भी कर सकते है.


Comments-
0

अन्य जानकारियां :

सुरुचि: इस पेज पर कुकिंग और रेसेपी के बारे में रोज़ जानिए कुछ नया

तनमन: इस पेज पर जाने सेहतमंद रहने के तरीके और जानकारियां

शैली: यह पेज देगा स्टाइल और ब्यूटीटिप्स सहित लाइफस्टाइल को नया टच

मंगलपरिणय: इस पेज पर मिलेगी विवाह से जुड़ी हर वो जानकारी जिसे आप जानना चाहेंगी

आधी दुनिया: यह पेज साझा करता है महिलाओं की जिन्दगी के हर छुए-अनछुए पहलुओं को

यात्रा: इस पेज पर जानें देश-विदेश के पर्यटन स्थलों को

वास्तुशास्त्र: यह पेज देगा खुशहाल जिन्दगी की बेहद आसान टिप्स