नीमच. आज से सावन मास शुरू होते ही शिवालयों में शिव की आराधना और भक्ति का दौर शुरू हो गया। भक्त शिव की उपासना और भक्ति में लीन हो गए हैं। शहर के सभी शिवालयों और मंदिरों में भक्त सुबह से ही शिव के दर्शनों के लिए उमडेंगे। किलेश्वर मंदिर समिति के अध्यक्ष पं.उमाशंकर खले ने बताया कि सावन मास के पहले दिन ब्रम्ह मुहूत्र्त में पंचामृत (कच्चा दूध, दही, घी, शहद तथा गंगाजल) से भगवान शिव का अभिषेक कर पूजा-अर्चना की जायेगी। महादेव मंदिर एवं भूतेश्वर महादेव में सुबह से ही भक्तों का तांता लगेगा. शाम होते होते किलेश्वर महादेव विद्युत रोशनी से जगमगाएगा। सावन माह के पहले दिन से ही शहर और देहात में धार्मिक कार्यक्रमों की धूम मचेगी। सुबह से ही श्रद्धालुओं ने शिवालयों में मत्था टेकना शुरू कर दिया. श्रद्धापूर्वक महिलाओं और पुरूषों के साथ ही बच्चों और युवाओं ने भी अपनी अपनी मनोकामना को लेकर पूजा-अर्चना करेंगे। शहर में भूतेश्वर महादेव, भागेश्वर महादेव, नीमच सिटी स्थित अति प्राचीन कोटेश्वर महादेव मंदिर, किलेश्वर महादेव मंदिर, सीआरपीएफ स्थित शिव मंदिरों में पूरे माह के दौरान भोलेनाथ के जयकारे गूंजेंगे। किलेश्वर महादेव मंदिर, भूतेश्वर महादेव मंदिर, गढिया महादेव, जूना सत्यनारायण, शिव मंदिर, इंदिरा नगर, सिटी के शिवशक्ति मठ, सुखानंद महादेव, नीलकंठ महादेव, जलेश्वर महादेव आदि स्थानों पर पहले दिन से ही आस्थावानों की भीड उमडेगी। दिनभर शिवालयों में महामृत्युंजय, शिव महिमा, शिव चालीसा, अखंड पाठ के आयोजन और मंत्र गूंजेंगे। प्रमुख मंदिरों पर रात्रि में रोशनी की जा रही है। कई लोगों द्वारा आज 13 जुलाई को सावन के प्रथम सोमवार में व्रत उपवास कर अच्छी बरसात की कामना की जाएगी।



Comments-
0