पल पल इंडिया ब्यूरो, बुरहानपुर. रात ग्राम मोहद के एक खेत में तेंदूआ घुस आया. उसने यहां बंधी घोड़ी और उसके बछड़े का शिकार किया. सोमवार सुबह किसान खेत पहुंचा तो उसे घोड़ी और उसका बच्चा नहीं दिखा. ढूंढने पर उसे पास के ही खेत में घोड़ी और उससे 10 मीटर दूर उसका बच्चा मृत मिला. तेंदुए ने घोड़ी की गर्दन पर हमला किया. वहीं बच्चे के शरीर का भी कुछ हिस्सा खा गया. खेत में तेंदुए के पंजों के निशान मिले हैं. खेत में तेंदुए द्वारा किए इस शिकार से ग्रामीण दहशत में हैं. मोहद निवासी शकील बिसमिल्ला रविवार शाम खेत में घोड़ी और उसका बच्चा बांध कर गया था. रात में खेत में घुसकर तेंदूआ घोड़ी और उसके बच्चे को उठा ले गया. दोनों को मारकर तेंदूआ पास ही के शेख निजाम अहमद तड़वी के खेत में फेंक गया. सुबह शकील खेत पहुंचा तो उसे घोड़ी और बच्चा नहीं दिखाई दिया. ढूंढने पर निजाम खेत में दोनों मृत मिले. शकील ने इसकी सूचना तुरंत वन विभाग को दी. सोमवार सुबह रेंजर गफ्फार खान, डिप्टी रेंजर बद्रीलाल जोशी अमले के साथ मौके पर पहुंचे. यहां उन्होंने पंचनामा बनाकर घोड़ी और उसके बच्चे के पोस्टमार्टम के लिए डॉक्टर को सूचना दी. रेंजर गफ्फार खान ने बताया खेत में तेंदुए के पंजों के निशान मिले हैं. घोड़ी के शरीर पर भी उसके नाखूनों के निशान हैं. वन विभाग ने किसानों को चार दिन तक खेतों में नहीं जाने की हिदायत दी है. किसान नजीर मंगल खान और नवाब पीर खान ने बताया मोतियादेव तालाब के पास ही हमारा खेत है. तेंदुए के हमले के बाद खेत जाने से डर लग रहा है.



Comments-
0