पल पल इंडिया ब्यूरो, बुरहानपुर. क्षेत्र के मोरदडख़ुर्द में लोग पानी की किल्लत झेल रहे हैं. ग्राम पंचायत सुखपुरी के तहत आने वाले गांव की आबादी 800 है. परेशान लोग दो किमी दूर से पानी लाने को मजबूर हैं. करीब एक साल पहले गांव तक पानी पहुंचाने के लिए पीएचई विभाग ने 10 लाख रुपए खर्च कर ट्यूबवेल कराया था. एक किमी दूर तक पाइपलाइन बिछाई गई लेकिन अफसरों की लापरवाही से गांव तक पानी नहीं पहुंच सका. बढ़ती गर्मी के बीच लोग पानी के लिए खासी फजीहत झेल रहे हैं.सरपंच मुन्नीबाई रसाल ने बताया जलस्तर गिरने के कारण ट्यूबवेल कराया गया था. इसके बाद पीएचई विभाग ने गांव तक पाइप लाइन बिछाई. यहां 12.5 हॉर्स पावर की मोटर लगाने के बाद भी गांव तक पानी नहीं पहुंच रहा है. ग्राम पंचायत ने इसको लेकर कई बार पीएचई विभाग से शिकायत की लेकिन अफसर समस्या की ओर ध्यान नहीं दे रहे हैं. सरपंच पति विजय रसाल ने बताया विभाग ने मोटर में 2.5 एमएम की केबल डाली है जबकि 12.5 हॉर्स पावर की मोटर के लिए 4 एमएम की केबल होना चाहिए. स्टार्टर भी लोकल कंपनी का लगाया था. ग्राम पंचायत ने अच्छी कंपनी का स्टार्टर लगाया है पर केबल कम गेज की होने के कारण वह पिघल जाती है. गांव में विभाग द्वारा चार टंकियां भी लगाई गई हैं. 8 हैंडपंप लेकिन 1 में ही आ रहा पानी - गांव के बलीराम जयराम, रोहीदास मायाराम, मथुराबाई अशोक, देवकाबाई रामदास, सतीबाई गोकुल, सीताबाई प्रकाश, रेखाबाई सरदार, चिमाबाई भीमा, राधाबाई सुभाष, मंगलाबाई दामू ने बताया गांव में 8 हैंडपंप हैं लेकिन इनमें से एक ही चालू है. पूनम भीमा राठौर इस हैंडपंप में भी कम पानी आता है. पानी के लिए रात 1 से 4 बजे तक जागना पड़ रहा है. हर परिवार को एक व्यक्ति पानी के कारण काम पर नहीं जा पा रहा है. ग्रामीणों ने समस्या के जल्द निराकरण की मांग की है.



Comments-
0