पलपल इंडिया ब्यूरो नीमच। अतिक्रमण शहर की ऐसी ज्वलंत समस्या है जिससे राहन तमाम कोशिशों के बावजूद प्रशासन जनता को राहत आज तक नही दिलवा पाया है. प्रमुख मार्ग हो बाजार अथवा गली मौहल्ले अतिक्रमण का साम्राज्य सभी दूर पसरा हुआ है.

शहर के प्रमुख टैगौर मार्ग से स्टेशन रोड़ तक फैला अतिक्रमण चौकन्ना बालाजी से आगे की पुलिया तक दिन भर ट्रकों के लदान से व्यस्त रहकर इस मार्ग के  आवागमन को अवरूद्ध कर दुर्घटनाओं को न्यौता देता ही रहता है. इस सम्बन्ध में यातायात व नपा अमले को नागरिकों ने कई बार अवगत करवाया पर आज तक समस्या का समाधान नही निकल पाया है. विशेषकर तिलक मार्ग जाजू बिल्डिंग से बारादरी तक अतिक्रमण और बेतरतीब वाहनों का दुकानों के  सामने खड़ा होना ऐसी दुखदायी स्थिति है जो राहगीरों के लिये प्रतिदिन समस्याएं खड़ी करती है . इस मार्ग पर दुकानदारों के अतिक्रमण का तो भगवान ही मालिक है क्योंकि अधिकतर दुकानदारों ने अतिक्रमण कर इस मार्ग को संकरी गली में बदल दिया है. जिसका खामियाजा राहगीरों को भुगतना पड़ता है. मुख्य मार्गों पर जंहा- तहां अवैध गुमटियां लगाने में भी लोगों को कोई हिचक नही है जिसका जी चाहा वह अतिक्रमण करने पर तुला है. परन्तु उसके बावजूद सम्बन्धित प्रशासन आखं मूंद कर शहर की बिगड़ती सुंदरता व अतिक्रामकों के खिलाफ कोई ऐसी प्रभावी कार्यवाही नही कर पा रहा है जो इस अतिक्रमण कारियों के बुलंद हौसलों पर लगाम लगा सके. अतिक्रमण का यह कारोबार इस कदर अपना जाल फैला चुका है कि कालोनी हो या अन्य स्थान सरकारी खाली भूमि पर कब्जा करने की भी होड़ लगी है. नपा व यातायात अमले का जब भी अतिक्रमण हटाओ अभियान इन पर कार्यवाही की गाज गिराने निकलता है तो वह महज औपचारिकता बनकर रह जाता है और दूसरे दिन पुन: अक्रिमण कारी दाती ठोककर वहंा काबिज हो जाते है. शहर के व्यस्ततम बाजारों में पार्किग की व्यवस्था का अभाव बेतरतीब वाहनों के पार्किग के रूप में सामने आकर शहर की यातायात व्यवस्था को अगूंठा दिखा रहा है. शहर के किसी भी मार्ग पर संकरा हो चौड़ा बडे वाहनों की घूसपैठ बदस्तूर जारी होकर नागरिकों की पीड़ा में शुमार हो रही है. प्रायवेट बस स्टेन्ड भी इस पीड़ा से अछूता नही है जहां दुकानदारों ने 10 फीट तक के अतिक्रमण कर बस स्टेण्ड पर नागरिकों की तमाम, सुविधाओं पर डाका डाल रखा है.



Comments-
0