जयपुर/ नई दिल्ली. छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश के बाद राजस्थान में भी बीजेपी को बड़ी कामयाबी हाथ लग सकती है. राजस्थान में आगामी विधानसभा चुनाव में भाजपा की सरकार बन सकती है. यहां अशोक गहलोत के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार की वापसी की राह मुश्किल लग रही है.

द वीक और सीएसडीएस के चुनाव पूर्व सर्वे में यह अनुमान व्यक्त किया गया है. सर्वे के मुताबिक 200 सदस्यीय विधानसभा में भाजपा को 115 से 125 सीटें मिल सकती है. कांग्रेस 60 से 80 सीटों के बीच सिमट सकती है. बसपा को 4 से 8 और अन्य को 8 से 12 सीटें मिल सकती है. 2008 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को 96 और भाजपा को 78 सीटें मिली थी. 14 सीटें निर्दलीयों के खाते में गई थी. शेष सीटें अन्य दलों ने जीती थी.

सर्वे में भाजपा को 41 और कांग्रेस को 32 फीसदी वोट मिलने का अनुमान लगाया गया है. पिछले विधानसभा चुनाव में भाजपा को 34.3 फीसदी वोट मिले थे. भाजपा को 7 फीसदी वोटों का फायदा होता दिख रहा है जबकि कांग्रेस को पांच फीसदी वोटों का घाटा हो रहा है. 2008 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को 36.8 फीसदी वोट मिले थे. बसपा को सात फीसदी वोट शेयर और अन्य को 20 फीसदी वोट मिल सकते हैं.

सर्वे में 43 फीसदी लोगों ने मुख्यमंत्री के रूप में वसुंधरा राजे को पहली पसंद बताया है जबकि अशोक गहलोत को 25 फीसदी,सीपी जोशी को सिर्फ 3 फीसदी और सचिन पायलट को 2 फीसदी लोगों ने मुख्यमंत्री के रूप में पहली पसंद बताया है. सिर्फ 2 फीसदी लोगों ने किरोड़ीलाल मीणा को सीएम के रूप में पहली पसंद बताया है. महज 31 फीसदी लोग मौजूदा गहलोत सरकार के कामकाज से संतुष्ट हैं जबकि 41 फीसदी नाखुश हैं. 24 फीसदी ने कोई राय व्यक्त नहीं की है.