पलपल इंडिया ब्यूरो, मंडला. जबलपुर रायपुर राष्ट्रीय राज्यमार्ग 12ए में जिला मुख्यालय मण्डला से 95 कि0मी0 दूर लिंगा मनौरी गांव के पास मुख्य मार्ग दल दल हो जाने के कारण 10 दिनों से जाम वाहनों के पहिए बमुश्किल आज घूम सका. असमय हो रही लगातार बारिश से पूर्व से ही अस्तित्व खो चुके मंगली से चिल्फी बॉर्डर तक मार्ग को जगह जगह दल दल बना दिया. जिससे इस मार्ग में अनेक वाहन दल दल में फस गए जिससे रास्ता जाम हो जाने से दोनों ओर 10-10 कि0मी0 तक हजारों वाहन जाम में फस गए.

इस राष्ट्रीय राज्य मार्ग में लिंगा मनौरी में लगभग 25 मीटर एवं ग्राम मनौरी  पास 15 मीटर तक मार्ग में दल दल मच गया है. दोनों स्थानों पर विगत 10 दिनों से रोज जाम लग रहा था. जबकि मंगली से चिल्फी के बीच लगभग 15 कि0मी0 में यह मार्ग अपना अस्तित्व खो चुका है. एक सप्ताह से अधिक से इस मार्ग पर लगे जाम से जहां जन जीवन अस्त व्यस्त हो गया वहीं विभाग का एक नुमांयिंदा भी मौके पर नहीं पहुंचा, यदा कदा मोतीनाला पुलिस का अमला शांति व्यवस्था बनाने मौके पर देखे गए.

राष्ट्रीय राज्य मार्ग बंद होने से दोनों ओर की यात्रा करने वाले यात्रियों को भारी सामान एवं बच्चों के साथ 10 कि0मी0 पैदल चलने पर वाहन नसीब हुआ. इस मार्ग पर चलने वाली कांकेर, महेन्द्रा एवं लकी ट्रेवल्स ने अपने दोनों तरफ के वाहनों में यात्रियों की अदला बदली कर यात्रा पूरी कराई.

बूंद बूंद पानी को तरसे लोग

जंगल में जाम लगने से फसे वाहनों के चालक परिचालक को खाना पीना तो दूर की बात है. बंूद बूंद पानी के लिए तरसना पड़ा 5-5 कि0मी0 पैदल चलने के बाद लोगांे को बस्तियों में पानी नसीब होता रहा. अनेक दिनों से जाम में फंसे चालक परिचालकों के पास पैसा खतम हो जाने से भूखे मरने की नौबत आ गई.

ग्रामवासियों ने बनाया चलने लायक मार्ग

आय दिन लग रहे जाम में यहां के मजदूरों को रोजगार का जरिया उपलब्ध करा दिया. यहां 30-40 की संख्या वाली टोली में मजदूरों ने मार्ग के दल दल स्थल पर बोल्डर लकड़ी, मुरम आदि डालकर हल्के एवं यात्री वाहनों को निकलने लायक मार्ग बनाकर प्रतिवाहन से 50/- रूपये वसूल कर अपनी रोटी का इंतजाम किया. हल्के वाहनों के लिए तो जाम खुल गया. लेकिन भारी वाहन एवं ट्राला आज भी जाम में फसे हुए हैं.

नहीं पहुंचा कोई विभागीय नुमांइदा

लगातार लग रही जाम वह भी राष्ट्रीय राज्य मार्ग पर हजारों वाहनों के जाम की स्थिति पर राष्ट्रीय राज्य मार्ग का एक भी आला अधिकारी स्थल पर पहुंचकर मौके का मुआयना नहीं किया. वहीं गुरूवार को दो जेसीबी वाहन मार्ग के सुधार के लिए पहुंची है.

वर्षा हुई तो फिर लगेगा जाम

लम्बे जाम के बाद मौसम के मेहरबानी से आवागमन आज बहाल तो हो गया. लेकिन मार्ग की जो स्थिति है. उसे देखकर कहा जा सकता है. कि थोड़ी सी बारिस में इस मार्ग में फिर लग जाएगा जाम. मार्ग की जर्जर स्थिति के संबंध में इस मार्ग से प्रतिदिन गुजरने वाली यात्री वाहन महेन्द्रा टेªवल्स के परिचालक उमेष सिंह ने बताया कि मंगली से चिल्फी बाडर तक लगभग 10-12 कि0मी0की दूरी में मार्ग की जर्जर स्थिति के कारण वर्षा प्रारंभ होने से अब तक यहां से यात्री वाहन गुजरने में डेढ से दो घंटे लग जाते हैं. उसमें भी वाहन की टूट फूट प्रतिदिन होती है.

इनका कहना है

मै सात दिन से जाम में फंसा हूं, रोड सुधारने विभाग का एक भी कर्मचारी नहीं आया.

परमजीतसिंह, ट्रक ड्रायवर

एक सप्ताह से जाम में फसी एक एक पैसा खर्च हो गया, अब खाने पीने का इंतजाम तक नहीं है.

राणा खंगूरा, ट्रक चालक

मार्ग की स्थिति अत्यंत खराब होने पर भी प्रषासन कोई कार्यवाही नहीं करती.

अनिल दाहिया, ट्रक चालक